मोदी बोले- भारत की ओर देख रही दुनिया, बुद्ध के संदेश पर चल मदद कर रहा देश

0
  • बुद्ध पूर्णिमा के अवसर पर वर्चुअल कार्यक्रम
  • कोरोना योद्धाओं को दुनिया का सलाम
  • कार्यक्रम में पीएम मोदी का संबोधन

दुनिया में जारी कोरोना वायरस के कहर के खिलाफ फ्रंटफुट पर लड़ाई लड़ रहे कोरोना वॉरियर्स का आज दुनिया सम्मान कर रही है. इसी के तहत आज बुद्ध पूर्णिमा के अवसर पर एक वर्चुअल कार्यक्रम का आयोजन हुआ, जिसमें दुनिया के कई बड़े नेता शामिल हुए. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस कार्यक्रम को संबोधित किया. पीएम बोले कि भगवान बुद्ध ने दुनिया को सेवा करने का संदेश दिया है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि इस बार परिस्थितियां अलग हैं, दुनिया मुश्किल वक्त से गुजर रही है. आपके बीच आना मेरे लिए सौभाग्य होता, लेकिन मौजूदा स्थिति इसकी इजाजत नहीं देती है. भारत आज बुद्ध के कदमों पर चलकर हर किसी की मदद कर रहा है, फिर चाहे वो देश में हो या फिर विदेश में, इस दौरान लाभ-हानि को नहीं देखा जा रहा है.

पीएम मोदी ने कहा कि भारत बिना स्वार्थ के साथ इस वक्त दुनिया के साथ खड़ा है, हमें अपने साथ-साथ अपने परिवार, आसपास की सुरक्षा करनी होगी. संकट के समय में हर किसी की मदद करना ही सबका धर्म है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि हमारा काम निरंतर सेवा भाव से होना चाहिए, दूसरे के लिए करुणा-सेवा रखना जरूरी है.

समाज बदल चुका है, लेकिन बुद्ध का संदेश नहीं

इस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि बुद्ध किसी एक परिस्थिति तक सीमित नहीं हैं, वह हर किसी को मानवता के तहत मदद करने का संदेश देते हैं. आज समाज की व्यवस्था बदल चुकी हैं, लेकिन भगवान बुद्ध का संदेश वही है और हमारे जीवन में उसका एक विशेष स्थान रहा है.

पीएम मोदी ने कहा कि आज देश के अलग-अलग हिस्सों में, दुनिया में अपनी-अपनी तरह से लोगों की सेवा कर रहा है. फिर चाहे सड़क पर लोगों को कानून का शासन करवाना हो या बीमार का इलाज करना हो, हर कोई अपनी ओर से सेवा कर रहा है. आज दुनिया उथलपुथल है, ऐसे वक्त में बुद्ध की सीख जरूरी है.

कार्यक्रम के तहत कोरोना वायरस से पीड़ित, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहे कोरोना वॉरियर्स का सम्मान किया गया. कार्यक्रम में दुनियाभर के कई बौद्ध नेता शामिल होंगे, जो कि कोरोना वायरस के खिलाफ जारी इस जंग में अपनी ओर से राय रखेंगे.

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Translate »