सैमसंग ने भारत के कोविड टीकाकरण में मदद करने के लिए आयात किए 10 लाख आधुनिक लो डेड स्पेस सिरिंज, वैक्सीन के उपयोग में होगी 20% तक की वृद्धि

0

एलडीएस सिरिंज उत्तर प्रदेश को प्रदान की गई हैं: लखनऊ और नोएडा प्रत्येक के जिला प्रशासन को 325,000 सिरिंज दी गई हैं।
350,000 एलडीएस सिरिंज जल्द ही तमिलनाडु में ग्रेटर चेन्नई कॉरपोरेशन को सौंपी जाएंगी। एलडीएस सिरिंज एक इंजेक्शन के बाद सिरिंज में छूट गई दवा की मात्रा को कम करता है। इससे टीके की बर्बादी कम होती है। इस तरह वैक्सीन की समान मात्रा से 20% अधिक लोगों को टीका लगा पाना संभव होता है।
एलडीएस सिरिंज को दक्षिण कोरिया से आयात किया गया है। ये सिरिंज उत्तर प्रदेश को उपलब्ध कराई गई हैं। इसके तहत लखनऊ और नोएडा में प्रत्येक जिला प्रशासन को 325,000 सिरिंज प्रदान की गई हैं। वहीं 350,000 एलडीएस सिरिंज जल्द ही तमिलनाडु में ग्रेटर चेन्नई कॉरपोरेशन को सौंपी जाएंगी। ये सिरिंज इन जिलों के कोविड टीकाकरण केंद्रों पर उपलब्ध होंगी। एलडीएस सिरिंज में जिस तकनीक का प्रयोग किया गया है, उससे 20% तक अधिक लोगों का टीकाकरण किया जा सकता है। इसका मतलब है कि अगर मौजूदा सिरिंज से 10 लाख खुराक दी जाती हैं, तो एलडीएस सिरिंज टीके की उतनी ही मात्रा से 12 लाख खुराक दी जा सकती हैं। सैमसंग ने उत्पादन क्षमता बढ़ाने में इन सिरिंज के निर्माताओं की मदद भी की है।
टीके के अधिकतम उपयोग को सुनिश्चित करने के लिए यह आधुनिक सिरिंज अमेरिका सहित दुनिया के कुछ ही बाजारों में पेश की गई है।सैमसंग ने कोविड-19 के खिलाफ जंग में अपना योगदान देते हुए भारत को 50 लाख अमेरिकी डॉलर (37 करोड़ रुपये) की मदद देने का वादा किया है। इसके तहत केंद्र और राज्य सरकारों को दान देने के साथ ही अस्पतालों के लिए आवश्यक मशीनें उपलब्ध कराई जाएंगी। सैमसंग के इस योगदान में 20 अमरीकी डॉलर मूल्य का इलाज से जुड़ा सामान भी शामिल है। इस मदद में भारत को 100 ऑक्सीजन कंसेंट्रेटर, 3,000 ऑक्सीजन सिलेंडर और 10 लाख एलडीएस सिरिंज प्रदान किए गए हैं।
स्थानीय स्तर पर जरूरतों को समझने के लिए सैमसंग अधिकारियों साथ लगातार बात कर रहा है। हम इलाज से जुड़ी ऐसे सामान प्रदान करना चाहते हैं जो इस मुश्किल समय में लोगों के लिए सबसे जरूरी है।
सैमसंग इस मुश्किल जंग में कड़ी मेहनत करने वालों को सलाम करता है। सैमसंग परिवार, जिसमें पूरे भारत में हमारे कर्मचारी और हमारे सहयोगी और उनके कर्मचारी शामिल हैं, कोविड-19 के खिलाफ इस लड़ाई में एक साथ खड़े हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.