पीएम नरेंद्र मोदी के आज के कैबिनेट फेरबदल नए मंत्रिमंडल में डॉक्टरेट, MBA, स्नातकोत्तर तथा पेशेवरों को शामिल किया जाएगा, ताकि औसत शैक्षणिक योग्यता को बेहतर किया जा सके

0

आज होने वाले अहम फेरबदल में अच्‍छा प्रदर्शन करने वाले मंत्रियों को प्रमोट किया जा सकता है. जिन मंत्रियों को ‘प्रमोट’ किए जाने की संभावना है, उनमें किरेन रिजीजू, अनुराग ठाकुर, हरदीप सिंह पुरी, पुरषोत्‍तम रुपाला, मनसुख मंडाविया और जीके रेड्डी शामिल हैं. माना जा रहा है कि इन मंत्रियों के परफॉर्मेंस से पीएम मोदी खुश हैं और उन्‍हें इसका इनाम मिल सकता है. रिजीजू इस समय खेल राज्‍य मंत्री हैं जबकि पुरी के साथ उड्डयन मंत्रालय का चार्ज हैं. हिमाचल प्रदेश से सांसद अनुराग ठाकुर वित्‍त राज्‍य मंत्री हैं. इसी तरह जीके रेड्डी गृह मंत्रालय में राज्‍य मंत्री हैं जबकि पुरषोत्‍तम रूपाला पंचायती राज, कृषि और किसान कल्‍याण मंत्रालय में राज्‍य मंत्री के तौर पर जिम्‍मेदारी संभाल रहे हैं. केंद्रीय मंत्रिमंडल में 81 सदस्य हो सकते हैं, परन्तु इस समय इसमें 52 मंत्री हैं. इसका अर्थ यह है कि 29 मंत्रियों को शामिल किया जा सकता है | कहा जा रहा है कि आगामी विधानसभा चुनावों और जातिगत समीकरण समेत अन्य बातों को ध्यान में रखते हुए मंत्रिपरिषद में बदलाव किया जा रहा है. जहां ज्योतिरादित्य सिंधिया, वरुण गांधी, अनुुप्रिया पटेल जैसे युवा चेहरों की एंट्री होने की संभावना जताई जा रही है,

अनुसूचित जाति (SC) से मंत्रिपरिषद में 12 मंत्री होंगे, जिसमें से 2 कैबिनेट मंत्री होंगे. वहीं, अनसूचित जनजाति से 8 मंत्री होंगे, जिसमें से तीन को मंत्रिमंडल में जगह मिलेगी. इसी तरह मंत्रिपरिषद में ओबीसी से 27 मंत्री होंगे, जिसमें पांच कैबिनेट में शामिल होंगे. अल्पसंख्यक वर्ग से 5 मंत्री, जिसमें से तीन कैबिनेट में सम्मिलित होंगे.

मंत्रिपरिषद में महिला सदस्यों की संख्या 11 होगी, जिसमें से दो महिलाएं कैबिनेट मंत्री के पद पर होंगी. जानकारी के मुताबिक, फेरबदल के बाद तैयार होने वाले मंत्रिपरिषद में 14 मंत्रियों की आयु 50 साल से कम है. मंत्रिपरिषद की औसत आयु 58 साल है. नई मंत्रिपरिषद में चार पूर्व मुख्यमंत्री, राज्य सरकारों के 18 पूर्व मंत्री, 39 पूर्व विधायक शामिल होंगे. पेशे के आधार पर मंत्रिपरिषद में 13 वकील, 6 डॉक्टर, 5 इंजीनियर, 7 नौकरशाह होंगे. शिक्षा की बात करें तो सात मंत्री पीएचडी धारक, 3 एमबीए डिग्री धारक और 68 मंत्री गेजुएट हैं.  सूत्रों के मुताबिक, महिला मंत्रियों की संख्या भी बढ़ेगी, तथा प्रशासनिक अनुभव रखने वाले लोगों को विशेष प्रतिनिधित्व दिया जाएगा. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, मंत्रिमंडल विस्‍तार से पहले केंद्र सरकार के दो मंत्रियों दो केंद्रीय मंत्रियों रमेश पोखरियाल निशंक (शिक्षा) , संतोष गंगवार (श्रम) और डॉक्‍टर हर्षवर्धन (स्‍वास्‍थ्‍य) ने इस्तीफा दे दिया है जबकि अभी तक केंद्र सरकार में कैबिनेट मंत्री के तौर पर जिम्‍मेदारी संभाल रहे थावरचंद गहलोत को कर्नाटक का राज्‍यपाल बनाया गया है.

Leave A Reply

Your email address will not be published.