‘भाग्य लक्ष्मी’ के अमन गांधी एक ग्लोबल ऑटोमोबाइल कंपनी के कर्मचारी से ऐसे बन गए एक एक्टर!

0

एक और दिलचस्प कहानी ‘भाग्य लक्ष्मी‘ शुरू की है। मुंबई की पृष्ठभूमि पर आधारित ज़ी टीवी का ‘भाग्य लक्ष्मी’, लक्ष्मी नाम की एक निस्वार्थ लड़की की कहानी है, जिसके पास सीमित साधन हैं, लेकिन अपनी जिंदगी के संघर्षों के बावजूद, वो अपनी जरूरतों से पहले हमेशा दूसरों की जरूरतों का ख्याल रखती है। अपनी दिलचस्प कहानी और अपने-से लगने वाले किरदारों के साथ इस शो की जोरदार शुरुआत हुई, जहां दर्शकों को कुछ जबर्दस्त ड्रामा देखने को मिला। असल में जब से ऋषि (रोहित सुचंती) को झूठे इल्ज़ाम में फंसाया गया है, तब से ही दर्शक ये देखने को उत्सुक हैं कि लक्ष्मी (ऐश्वर्या खरे) परिवार का नाम बचाने के लिए क्या करेगी। जहां इस शो के लीड कलाकार अपनी परफॉर्मेंस से लगातार दर्शकों का मनोरंजन कर रहे हैं, वहीं एक किरदार ऐसा भी है, जिसने दर्शकों को सीट से बांधे रखा है, और वो किरदार है आयुष्मान। आयुष्मान का किरदार अमन गांधी निभा रहे हैं, जो इस शो में ऋषि के कज़िन बने हैं। आयुष्मान एक खुशमिजाज इंसान हैं, जो हमेशा ऋषि के साथ रहता है। जहां अमन अपने इस रोल को लेकर बेहद उत्साहित हैं, वहीं इस मुकाम तक पहुंचने के लिए उन्होंने भी अपने हिस्से का संघर्ष किया है।

दिल्ली के अमन का एक्टिंग में बड़ा दिलचस्प सफर रहा है। अपने हाथ में एक बड़ा करियर होने के बावजूद इस एक्टर ने अपने सपने पूरे करने के लिए पूरे विश्वास के साथ एक उड़ान भरी। यह एक्टर बताते हैं, ‘‘एमबीए करने के बाद मैं एक ग्लोबल ऑटोमोबाइल कंपनी में असिस्टेंट मैनेजर के रूप में काम कर रहा था, लेकिन मैं जानता था कि वो मेरा सपना नहीं था। ‘‘मैं मन ही मन हमेशा से एक एक्टर बनना चाहता था, क्योंकि मैं मिमिक्री करने में अच्छा था और बहुत-से लोग मुझे एंटरटेनर के रूप में जानते थे। मुझे पता था कि एक्टिंग के साथ मुझे बहुत आगे जाना है, क्योंकि यह हमेशा से मेरा पैशन रहा है। इसलिए मैंने हिम्मत करके खुद को और अपने पैरेंट्स को मनाया और अपना पैशन फॉलो किया। जब मैं फुलटाइम जॉब कर रहा था, तब भी मैं वीकेंड के दौरान एक्टिंग सीखने पर ध्यान देता था। मुझे अपना आत्मविश्वास समेटकर मुंबई आने में थोड़ा वक्त लगा। हालांकि जब मैं यहां आया, तब भी मेरे हिस्से में कुछ संघर्ष थे। मुझे याद है कि मुझे एक शो मिला था। मैंने इसकी शूटिंग भी की थी, लेकिन दुर्भाग्य से यह कभी टीवी पर नहीं आ सका। इससे मेरे सफर में थोड़ी अड़चनें आईं, लेकिन किस्मत से मेरे पैरेंट्स बहुत सपोर्टिव थे। उन्होंने मानसिक और आर्थिक रूप से मेरी बड़ी मदद की, ताकि मैं उन हताशा भरे दिनों से बाहर आ सकूं। साल 2016 में अपने डेब्यू के बाद से मैंने यहां-वहां कई छोटे कैमियो रोल किए और इस समय मैं ‘भाग्य लक्ष्मी‘ में अपने रोल को लेकर वाकई बेहद उत्साहित हूं। मैं इसे अपने लिए एक चुनौती की तरह देखता हूं और यह उम्मीद करता हूं कि दर्शक हमारे शो के साथ-साथ मेरे किरदार को भी अपना प्यार देते रहेंगे।‘‘

Leave A Reply

Your email address will not be published.