मर्दानगी के फेर में फंसे मर्द की मजेदार कहानी,’ये मर्द बेचारा’

0

फिल्म – ये मर्द बेचारा
स्टारकास्ट – विराज राव, सीमा पाहवा, मनुकृति पाहवा, अतुल श्रीवास्तव , बृजेन्द्र काला,महेश गहलोत ,और माणिक चौधरी  निर्देशक – अनूप थापा
रेटिंग – 4

लड़का जैसे ही बड़ा होना शुरू होता है उसकी मर्द बनने की ट्रेनिंग शुरू हो जाती है. इस ट्रेनिंग में पिता मुख्य भूमिका निभाते ही हैं,वसाथ ही साथ घर के अन्य बड़े चाचा मामा, दादा सब अपने-अपने हिसाब से अपनी मर्दानगी नौजवान में ट्रांसफर करते रहते हैं. ऐसी ही एक कहानी लेकर आये हैं निर्देशक अनूप थापा ‘ये मर्द बेचारा’  ऐसे ही विषय को लेकर दर्शकों के बीच आने वाली है, ये कल यानी कि 19 नवंबर 2021 को सिनेमाघरों में रिलीज होगी आइए जानते हैं कैसी है ये फिल्म.

कहानी-

फिल्म की कहानी शर्मा जी के बेटे शिवम शर्मा की है जो अपने पिता के खानदान की परंपरा को अपने सर पर लेकर ढ़ो रहा है. पिता जी का कहना है कि उनके खानदान में मर्द की निशानी है मूंछें. इस वजह से शिवम को मूंछ रखनी पड़ती है. मूंछ रखने के बाद मर्दानगी का पता नहीं लेकिन उसकी जिंदगी नीरस जरूर हो जाती है. कॉलेज में पसंद लड़की उससे इम्प्रेस नहीं होती और घर पर पिताजी उसकी शादी कराने में लगे हुए हैं. शिवम अपनी क्रश शिवालिक को अपना बनाने के लिए सारे आईडियाज को फॉलो करता है. वो बॉडी बनाता है अपने खानदान की परंपरा मूंछों का भी बलिदान कर देता है. हर कोई उसे अपनी मर्दानगी के नए-नए अनुभव सुनाता है. परंपरा और प्यार के बीच में फंसा ‘ये मर्द बेचारा’ आखिर कैसे इस धर्म संकट से निकलता है इसके लिए आपको ये फिल्म देखनी पड़ेगी.

देखें या ना देखें?

अगर आपको हल्का-फुल्का फैमिली ड्रामा देखना पसंद है तो ये फिल्म आपका ठीक ठाक मनोरंजन करेगी. इसमें छोटे शहर की आम परिवार बाकी कहानी आम तरीके से दिखाई गई है. कई मुद्दे बड़ी बेबाकी से दिखाए गए हैं जिसकी तारीफ की जानी चाहिए. अगर आप बहुत ज्यादा उम्मीद लेकर देखेंगे तो आपको निराश हाथ लग सकती है.

 

Leave A Reply

Your email address will not be published.