मेदांता फाउंडेशन ने गुरुग्राम मैं लॉन्च किया ‘सवेरा’, एक अद्भुत प्रयास स्तन कैंसर को शुरुआती स्टेज में रोकने के लिए

0
55

गुरुग्रामः मेदांता ग्रुप की इकाई मेदांता फाउंडेशन ने हैल्थकेयर एवं समाज में सुधार लाने के लिए सवेरा नामक अभियान शुरू किया है। इस पहल में टैक्टाईल ब्रेस्ट एग्ज़ामिनेशन‘ (टी.बी.ई.) से स्तन कैंसर की जाँच मैं मदद मिलेगी । मेदांता गुरुग्राम की डॉ. कंचन कौर (सीनियर डायरेक्टरब्रेस्ट सर्विसेजकैंसर इंस्टीट्यूट) द्वारा शुरू की गई टी.बी.ई. स्तन कैंसर की जाँच के लिए एक अभिनव प्रणाली हैजिसमें दृष्टिबाधित महिलाओं की अत्यधिक विकसित स्पर्श इंद्रियों की मदद से स्तन में होने वाली छोटी से छोटी विकृति को भी भांप लिया जाता है।

डॉ. कौर ने कहा, ‘‘वर्तमान में मेडिकल टैक्टाईल एग्ज़ामिनर (एम.टी.ई.) के रूप में नियुक्त की गई 4 महिलाओं में से 3 सरकारी मेडिकल संस्थान में बैठेंगी। आने वाले समय में इन एग्ज़ामिनर्स की संख्या बढ़ाकर उन्हें और ज्यादा जिलों तक पहुँचाया जाएगा। टी.बी.ई न केवल उन महिलाओं का किया जाएगा जो कैंसर का परीक्षण कराने के लिए आएंगी, बल्कि उन महिलाओं का भी किया जाएगा जो यहाँ अन्य परामर्श लेने के लिए आएंगी। परीक्षण के प्रति इस सक्रिय दृष्टिकोण द्वारा स्तन कैंसर की तुरंत पहचान और समय पर निदान संभव हो सकेगा । यहाँ यह भी ध्यान रखना जरूरी है कि यदि स्तन कैंसर की पहचान समय पर हो जाएतो उसका इलाज सफल होने की संभावना 95 प्रतिशत होती है । इसलिए स्तन कैंसर की पहचान सक्रियता से समय पर करना बहुत जरूरी है।’’

मेदांता के ग्रुप सी.ई.ओ एवं डायरेक्टरश्री पंकज साहनी ने कहा, ‘‘स्तन कैंसर के  अधिकतर मामले विकसित चरण में सामने आते है। इसकी बढ़ती संख्या के कारण समय पर पहचाननिदान और इलाज अत्यधिक आवश्यक है। हमारी जिम्मेदारी है कि हम अपने मरीजों को खुद के स्वास्थ्य की देखभाल करने में समर्थ बनाएं

भारत में छह साल पहले टी.बी.ई. पद्धति शुरू होने के बाद दृष्टिबाधित महिलाओं को एन.ए.बी. इंडिया सेंटर फॉर ब्लाइंड वीमेन एंड डिसेबिलिटी स्टडीज़ में स्तन रोगों और उनके परीक्षण का सैद्धांतिक प्रशिक्षण दिया गयाजिसके बाद उन्हें मेदांता गुरुग्राम के ब्रेस्ट क्लिनिक में डॉ. कंचन कौर के मार्गदर्शन में तीन महीने तक क्लिनिकल इंटर्नशिप प्रदान की गई।