डॉ. शेठ ने डॉक्‍टर्स फॉर यू (डीएफवाई) के साथ मिलकर “हेल्‍दी इंडिया पहल- हेल्‍दी इंडिया हेल्‍दी यू” को किया लॉन्‍च

0
84

डॉ. शेठ, जो होनासा कंज्‍यूमर पोर्टफोलियो का एक ब्रांड है, स्‍वस्‍थ भारत के निर्माण के दृष्टिकोण के साथ डॉक्‍टर्स फॉर यू (डीएफवाई) के साथ मिलकर ‘हेल्‍दी इंडिया पहल’ के लॉन्‍च की घोषणा की ,यह भागीदारी एक बदलावकारी यात्रा की शुरुआत का संकेत है, जिसका उद्देश्‍य भारत के दूरदराज के इलाकों में स्‍वास्‍थ्‍य सेवा को एक नया आकार देना और ग्रामीण भारत में सकारात्‍मक बदलाव को बढ़ावा देना है। इस पहल के माध्‍यम से, डॉ. शेठ हेल्‍थमोबाइल ऑन व्‍हील्‍स की पहल शुरू करेगा ताकि यह सुनिश्‍चित किया जा सके कि स्‍वास्‍थ्‍य सेवा शहरी केंद्रों तक ही सीमित न रहे बल्कि पिछड़े समुदायों तक भी पहुंचे।

इस पहल को बिहार के मसादी जिले से शुरू किया गया है, जिसमें मोबाइल मेडिकल वैन में बैठकर डॉक्‍टर्स, नर्स, और सहायक स्‍टाफ की हमारी समर्पित टीम मसारही क्षेत्र के गांवों का दैनिक दौरा करती है और वहां मरीजों को निदान, परामर्श, आवश्‍यक दवाएं और मेडिकल किट प्रदान करती है। डॉ. शेठ की वेबसाइट पर की गई प्रत्‍येक खरीदारी सीधे लाभार्थी को मदद करेगी, जो प्रत्‍येक ऑर्डर को सभी के लिए स्‍वस्‍थ भारत को बढ़ावा देने वाले हमारे मिशन से जोड़ेगी।

डॉ. शेठ सिर्फ एक स्किन केयर ब्रांड नहीं है, यह प्रामाणिकता, समावेशिता और प्रभावकारिता में निहित एक दर्शन है। होनासा के साथ डॉ. शेठ की यात्रा एक बेहतर दुनिया के साझा दृष्टिकोण के साथ शुरू हुई है। सामाजिक उत्‍तरदायित्‍व के प्रति होनासा की प्रतिबद्धता के साथ ब्रांड के मूल्‍यों के तालमेल ने इस भागीदारी को स्‍वाभाविक रूप से उपयुक्‍त बना दिया है।

इस पहल पर बोलते हुए, वरुण अलघ, सह-संस्‍थापक और मुख्‍य कार्यकारी अधिकारी, होनासा कंज्‍यूमर लिमिटेड ने कहा, “जम हमने अपनी उद्यमशीलता यात्रा शुरू की, तब हम एक ऐसे ब्रांड के साथ जो एक बड़े उद्देश्‍य के लिए था, बाजार के अंतर को भरना चाहते थे। होनासा में, हम प्रत्‍येक ब्रांड से जुड़े एक मजबूत उद्देश्‍य के साथ उद्देश्‍य संचालित ब्रांड तैयार करते हैं।

डॉ. रविकांत सिंह, संस्‍थापक, डॉक्‍टर्स फॉर यू ने कहा, “डॉक्‍टर्स फॉर यू को देश के कुछ सबसे वंचित नागरिकों तक पहुंचने और उन्‍हें स्‍वास्‍थ्‍य सेवाएं उपलब्‍ध कराने में डॉ. शेठ के साथ भागीदारी करने पर गर्व है। संयुक्‍त राष्‍ट्र के एसडीजी 17 में कहा गया है, भागीदारी सतत विकास की कुंजी है। साथ मिलकर हम एक व्‍यक्तिगत इकाई या संस्‍थान के अलावा भी बहुत कुछ कर सकते हैं।