श्नाइडर लुमिनस पॉवर टेक्नॉलॉजीज़ में 350-400 करोड़ रु. का निवेश करेगा

0
153

आज ऊर्जा एवं ऑटोमेशन के डिजिटल परिवर्तन में लीडर, श्नाइडर इलेक्ट्रिक ने अपनी भारतीय सब्सिडियरी एवं भारत में पॉवर बैकअप, होम इलेक्ट्रिकल में लीडर व आवासीय सोल टेक्नॉलॉजी में सर्वोच्च कंपनी, लुमिनस पॉवर टेक्नॉलॉजीज़ में 350 करोड़ से 400 करोड़ रु. के निवेश की घोषणा की। इस निवेश का इस्तेमाल लुमिनस की तीव्र वृद्धि के लिए किया जाएगा, जिसमें बैटरी व इन्वर्टर की उत्पादन क्षमता को दोगुना करना, रोजगार के नए अवसरों का सृजन करना और इसके सोलर व्यवसाय को मजबूत करना शामिल है।

इस समय लुमिनस हर साल 3.12 मिलियन बैटरियों का उत्पादन करता है। नई फंडिंग के बाद, कंपनी 2025 तक अपने उत्पादन को 5.1 मिलियन तक बढ़ा देगी और अपनी क्षमता में 63 प्रतिशत की वृद्धि कर लेगी। कंपनी एक नए प्लांट का विकास भी करेगी, जो टॉल ट्यूबुलर बैटरीज़ (टीटीबी) के उत्पादन में सहयोग करेगा। यह प्लांट दो चरणों में स्थापित किया जाएगा, पहले चरण में 30,000 टीटीबी की निर्माण क्षमता विकसित होगी, जिसे दूसरे चरण में बढ़ाकर 65,000 तक ले जाया जाएगा। लुमिनस बैटरी एवं अगली जनरेशन के इन्वर्टर निर्माण के लिए प्रौद्योगिकी को अपग्रेड करने के लिए क्षमता निर्माण में 185 करोड़ रु. का प्रत्यक्ष निवेश भी करेगी।

इस नए निवेश से ‘आत्मनिर्भर भारत’ में भी सहयोग मिलेगा, क्योंकि इसके 90 प्रतिशत उत्पाद मेक इन इंडिया होंगे और उनका निर्माण इन-हाउस होगा। लुमिनस देश में अपने मौजूदा सात प्लांट्स का विस्तार करेगा और दो निर्माण संयंत्र स्थापित करेगा, जिससे 2,000 से ज्यादा लोगों के लिए प्रत्यक्ष रोजगार का विकास होगा और अप्रत्यक्ष रूप से 10,000 लोगों व उनके परिवारों को सहयोग मिलेगा। ये नए फंड मुख्य तत्वों की कंपनी की बैकवार्ड इंटीग्रेशन अवधारणा को मजबूत करेंगे, जिसके अगले 12 से 18 महीनों में अस्तित्व में आने की उम्मीद है।

आखिर में, इस निवेश का एक बड़ा हिस्सा लुमिनस के सोलर व्यवसाय पर केंद्रित होगा, जो सबसे तेजी से विकसित हो रहा है और 2025 तक कंपनी की सेल्स में इसका 40 प्रतिशत हिस्सा होने की उम्मीद है। कंपनी आवासीय और कमर्शियल भवनों के लिए रूफटॉप सोलर समाधान स्थापित करने में मुख्य भूमिका निभा रही है, लेकिन इस नए फंड से उच्च क्वालिटी के उत्पादों, आसान इंस्टॉलेशन एवं उत्तम सेवाओं द्वारा ग्राहकों को बेहतर अनुभव प्रदान करने में मदद मिलेगी।

विस्तार योजनाओं के बारे में, श्री विपुल सभरवाल, मैनेजिंग डायरेक्टर, लुमिनस पॉवर टेक्नॉलॉजीज़ ने कहा, ‘‘भारत में पॉवर बैकअप एवं होम इलेक्ट्रिकल बाजार की मांग में तेज वृद्धि हो रही है, खासकर तब, जब जनसंख्या का एक बड़ा हिस्सा रिमोट वर्किंग/वर्क-फ्रॉम होम के सिद्धांत की ओर बढ़ रहा है। महामारी एवं उसके बाद लगे लॉकडाउन के बावजूद हम उच्च व्यवसायिक वृद्धि, संलग्नता व विस्तार हासिल करने में सफल रहे। हम इस गति को बनाए रखेंगे और अगले तीन से चार सालों में साल-दर-साल तीव्र वृद्धि करते हुए 5,000 करोड़ रु. के राजस्व तक पहुंच जाएंगे। श्नाइडर इलेक्ट्रिक के साथ मिलकर हम इस वृद्धि के उद्देश्य को आगे बढ़ाएंगे और अपनी निर्माण क्षमताओं एवं विशेष व्यवसायिक विभागों में लगभग 400 करोड़ रु. का निवेश करेंगे। इससे हमें बैकवार्ड इंटीग्रेशन व रोजगार निर्माण के लिए आत्मनिर्भर भारत और मेक इन इंडिया में सहयोग देने में मदद मिलेगी।’’

श्री मनीष पंत, ईवीपी, श्नाइडर इलेक्ट्रिक एवं सदस्य, लुमिनस बोर्ड ने यह भी बताया कि, ‘‘लुमिनस उच्च वृद्धि के प्रोज़्यूमर व्यवसाय में है और इस व्यवसाय को बढ़ाने के लिए अगले कुछ सालों में काफी निवेश करेंगे।’’

लुमिनस की वृद्धि कंपनी के लाभ को वापस कंपनी की कैपेक्स वृद्धि में लगाने के सिद्धांत पर आधारित है। कंपनी का राजस्व बिना किसी अतिरिक्त ईक्विटी निवेश के 1,000 करोड़ रु. से बढ़कर 3,500 करोड़ रु. हो गया है। लगभग एक दशक पहले, श्नाइडर इलेक्ट्रिक द्वारा इसका अधिग्रहण किए जाने के बाद से इसके सभी निवेश सेल्फ-फंडेड हैं। वर्तमान में इसके 25 से 30 प्रतिशत लाभ का निवेश वापस कंपनी में कर दिया जाता है, जो आने वाले समय में बढ़कर 50 प्रतिशत तक हो जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here