हॉर्लिक्स डायबिटीज प्लस’ के लॉन्च साथ हॉर्लिक्स ने मधुमेह के वर्ग में प्रवेश किया

0

अगले 25 वर्षों में मधुमेह का दर दोगुना होने का अनुमान है तथा रोग की व्यापकता दर में भारत, चीन के बाद 2 रैंक पर है। भारत की 7.3% जनसंख्या मधुमेह से ग्रसित है और यह एक उभरता हुआ खतरा बना हुआ है। 10.3% जनसंख्या प्री-डायबिटिक है, हर 2 में से 1 रोगी का डायग्नोसिस ठीक से नहीं हो पाता है। मधुमेह के साथ आने वाले प्रमुख जीवन-परिवर्तनों की वजह से, लगातार समाधान खोज रहे उपभोक्ताओं को मधुमेह को बेहतर ढंग से प्रबंधित करने की आवश्यकता है।

मधुमेह के इन खतरनाक आंकड़ों और उपभोक्ताओं की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए हॉर्लिक्स ने, हॉर्लिक्स प्लस रेंज को  पोषण संबंधी कमियों को दूर करने के लिए तैयार किए गए विशेष ब्रांडों  के सेगमेंट में प्रवेश किया है। हॉर्लिक्स द्वारा पेश किया गया डायबिटीज प्लस एक पौष्टिक पेय है जिसे भारतीय वयस्कों के लिए डिजाइन किया गया है जिसमें उच्च फाइबर (दोहरे मिश्रण फाइबर का 22%) होता है। शोध से पता चला है कि एक बैलेंस्ड आहार जिसमें फाइबर शामिल होता है, रक्त में ग्लूकोज और लिपिड को कम करने में मदद करता है। हॉर्लिक्स डायबिटीज प्लस प्रोटीन में हाई है और इसमें 16 महत्वपूर्ण पोषक तत्व होते हैं। इसमें फाइबरसोल-2 और न्यूट्रियोज फाइबर होता है जो कि तृप्ति को बढ़ावा देने के लिए जाना जाता है एवं कैलोरी का सेवन कम करने में भी सहायक है।

आहार के महत्व पर और मधुमेह प्रबंधन के लिए जीवन शैली पर टिप्पणी करते हुए डॉ बंशी साबू, अध्यक्ष, आरएसएसडीआई  के ने , “भारत में मधुमेह के लिए, एक अस्वास्थ्यकर आधुनिक आहार और कम गतिविधि पैटर्न को प्रमुख कारण माना जाता है और इसे बदलने की जरूरत है। अध्ययनों से पता चला है कि फाइबर से भरपूर मधुमेह पोषण (एफडीएन) के कई लाभ हैं, जिनमें ग्लाइसेमिक नियंत्रण में सुधार, ग्लूकोज स्पाइक्स में कमी, प्लाज्मा लिपिड सांद्रता को कम करना और T2DM रोगियों में वजन प्रबंधन करना  शामिल है।“

हॉर्लिक्स डायबिटीज प्लस ने मधुमेह रोगिओं के लिए हाल ही में फाइबर के महत्व को उजागर करने के लिए अपना पहला टीवीसी पेश किया। हॉर्लिक्स डायबिटीज प्लस के टीवीसी पर टिप्पणी करते हुए कृष्णन सुंदरम, उपाध्यक्ष, नुट्रिशन, एचयूएल ने कहा, “मधुमेह एक महामारी के बराबर है और भारत 24 करोड़ प्री-डायबेटिक्स और मधुमेह रोगिओं के साथ इसके बढ़ते बोझ का सामना कर रहा है।” हम जानते हैं कि पोषण प्रबंधन और जीवन शैली इसमें महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं। हम हॉर्लिक्स डायबिटीज प्लस लॉन्च कर रहे हैं, जो विशेष रूप से मधुमेह रोगिओं के लिए एवं उन लोगों के लिए जिन्हे मधुमेह का ख़तरा है के लिए तैयार किया गया है। अपने संचार के माध्यम से, हम उपभोक्ताओं को इसके बारे में शिक्षित करना चाहते हैं कि डायबिटीज प्लस, मधुमेह रोगियों के लिए उच्च फाइबर का प्रोडक्ट है जिसमें उच्च फाइबर का दोहरा मिश्रण है, जो कि आपकी दैनिक फाइबर आवश्यकता का 26% पूरा करता है

फिल्म के निर्माण में रचनात्मक अंतर्दृष्टि पर टिप्पणी करते हुए, सुमित्रा सेनगुप्ता, एफसीबी इंडिया के कार्यकारी क्रिएटिव डायरेक्टर ने कहा, “जब कोई व्यक्ति प्री-डायबिटिक या डाईबेटिस से ग्रसित हो जाता है तो उसकी तत्काल प्रतिक्रिया चीनी में कटौती करने की होती है। हमारी फिल्म एक अधेड़ उम्र के आदमी के साथ शुरू होती है जो उसके सामने रखे गए प्रत्येक भोजन में मौजूद चीनी के बारे में पूछ रहा है। लेकिन उसे चीनी कम करने का प्रयास सही लगता है परन्तु डॉक्टर की इस घोषणा के बाद कि उच्च फाइबर मधुमेह को प्रबंधित करने में मदद करता है, उसे अचानक ही अपने प्रयास अपर्याप्त प्रतीत होने लगते हैं। यह हॉर्लिक्स को ‘डायबिटीज प्लस’ पेश करने का एक सही अवसर है जो दैनिक फाइबर की 26% जरूरतों को पूरा करता है। हमें उम्मीद है कि न केवल चीनी कम करने, बल्कि फाइबर जोड़ने से भी न्यूट्रिशनल बेहेवियर में बदलाव आएगा।“

Leave A Reply

Your email address will not be published.