माननीय प्रधानमंत्री से किया आग्रह कि राम मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा से पहले देशद्रोही असुरो का सजा दे

0
72

सामाजिक कार्यकर्ता और व्हिसलब्लोअर गौतम अग्रवाल द्वारा प्रेस क्लब ऑफ इंडिया, नई दिल्ली में देश में चल रहे बड़े शत्रु संपत्ति घोटाले और संदिग्ध आतंकी फंडिंग के बारे में प्रेस कॉन्फ्रेंस की।पत्रकारों को जानकारी देते हुए उन्होंने कहा कि हमारे देश में 16 हजार के करीब शत्रु संपत्तियां (आजादी के समय पाकिस्तान गए लोगों की भारत में रह गई संपत्तियां) है, जिनको पाकिस्तान में रह रहे लोगों द्वारा यहां के लोगों और अफसरों के साथ मिलकर बेचा जा रहा है। ज्यादा जानकारी देते हुए उन्होंने कहा कि आजादी के बाद इन संपत्तियों के मालिक 1952-53 में भारत छोड़कर पाकिस्तान चले गए और वहां के नागरिक बन गए।उन्होंने कहा कि अब उनकी जो संपत्तियां इधर रह गई थी, उन पर भारत सरकार का कब्जा होना चाहिए था, लेकिन इस के उल्ट पाकिस्तान के लोग उधर बैठकर भारत में रह गई संपत्तियों का सौदा कर रहे है। उन्होंने कहा कि मुंबई और महानगर में ऐसी सबसे ज्यादा संपत्तियां है, जिनपर भू-माफिया कब्जा कर रहा है या यहां के कुछ लोग पाकिस्तानियों से मिलीभगत करके बेच रहे है। उन्होंने यह भी बताया कि 2012 में इस प्रॉपर्टी सबंधी दुबई में पाकिस्तान से आए लोगों के साथ डील हुई थी और हवाला राशि का लेन देन हुआ था। उन्होंने कहा कि 2013 में डेवलपमेंट एग्रीमेंट हुआ, जिसमें लिखा गया कि उन्होंने 2012 में यह प्रॉपर्टी खरीदी है। उनका ये मुद्दा मुंबई से नजदीक लगते मीरा भेंदेर या महाराष्ट्र तक सीमित नहीं है, बल्कि यह देशव्यापी अति संवेदनशील मुद्दा देश सुरक्षा और देश हित से जुड़ा है। क्योकि जो दो कंपनियां ए ए कारपोरेशन और जे पी इंफ़्रा इस घोटाले में शामिल है, उनमें आनंद अगरवाल, हरीश मोंटू अगरवाल, राम प्रकाश अगरवाल, जॉर्डन प्रेहेरा, दिलेश शाह और विजय जैन शामिल है, के संबंध पाकिस्तान में बैठे भारत के मोस्ट वांटेड आतंकी दाऊद अब्राहिम और उसके भाई मुस्तकीम से है।

उन्होंने कहा कि शत्रु प्रॉपर्टी घोटाले का विषय माननीय विधायक महादेव जी जानकर ने भी उठाया था, जिसपर उच्च सदन की सभा पति महोदय मति नीलम गोहरे जी ने जांच के आदेश दिए है।

उपरोक्त जानकारी से मेरे द्वारा फरवरी 2022 से ए ए कारपोरेशन के आनंद अगरवाल, हरीश मोंटू अगरवाल, राम प्रकाश अगरवाल जॉर्डन प्रेहेरा और दिलेश शाह व जे पी इंफ़्रा के मालिक विजय जैम, जिन पर मैने शत्रु संपत्ति घोटाले व सस्पेक्टेड टेरा फंडिंग के आरोप लगाए थे। उस मुद्दे को आशीष शिलर ने सबूत देकर ये सत्यापित कर दिए कि इन लोगों के दाऊद अब्राहिम और महादेव बेटिंग एप से जुड़े लोगो से संबंध है और ये लोग देश विद्रोही गतिवधिओं में शामिल हो सकते है।
उन्होंने माननीय प्रधानमंत्री नरिंदर मोदी और गृह मंत्री अमित शाह से प्रार्थना और अपेक्षा करता हूं कि किसी भी देश विरोधी गतिविधि में शामिल लोगों की निष्पक्ष जांच करवाएं और उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई करेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here