अयोध्या में राम मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा पर विदेश में होने वाले रामलीलाओं का मंचन पुराना किला में

0
45

केंद्रीय कला एवम संस्कृति मंत्री मीनाक्षी लेखी ने आज आईसीसीआर द्वारा मथुरा रोड स्थित पुराना किला में 18 से 21 जनवरी तक अंतर्राष्ट्रीय रामायण उत्सव की जानकारी मीडिया से साझा करते हुए कहा इस बार जब करीब सात सौ साल के लंबे संघर्ष के बाद अयोध्या में प्रभु श्री राम अपने घर विराजमान हो रहे है तो राम जी ने देश के लोकप्रिय प्रधान मंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी को अपना सेवक बनने का उत्तरदायित्व सोपा हैं श्रीमती लेखी ने बताया इस बार यह रामायण उत्सव देश ही नहीं कई दूसरे देशों में भी आयोजित होगा साथ ही हम इस महान उत्सव को हर उस नगर शहर कस्बे के साथ भी जोड़ रहे है जहां जहां से प्रभु श्री राम जी का संबंध रहा यही वजह यह आयोजन पूरे वर्ष अलग अलग तारीखों पर अलग अलग स्थानों पर भी किया जाएगा।

इस रामायण उत्सव का उद्घाटन कला एवं संस्कृति मंत्री मीनाक्षी लेखी करेगी, इस अंतरराष्ट्रीय रामायण मेला में राम भक्ति से सरोबोर देश में होने वाले कार्यक्रमों के अलावा विदेश में होने वाले रामलीलाओं का भी प्रदर्शन किया जाएगा। ताकि अयोध्या की तरह पूरी दिल्ली भी राममय हो होगी सुबह 11:00 बजे से शाम 7:00 बजे तक चलने वाली इस अंतर्राष्ट्रीय रामायण मेला में दर्शको का प्रवेश निशुल्क होगा।
इस बार इंडोनेशिया, मलेशिया, श्रीलंका, थाईलैंड, कंबोडिया, सिंगापुर एवं रसियन फेडरेशन द्वारा वहां होने वाले रामलीला का प्रदर्शन अंतर्राष्ट्रीय रामायण मेले में किया जाएगा । चार दिवसीय रामायण मेला में कला और शिल्प प्रदर्शनियों के लिए भी एक मंच होगा। पहले दिन का कार्यक्रम वाराणसी के थिएटर निर्देशक-सह-कवि व्योमकेश शुक्ला द्वारा निर्देशित ‘राम की शक्ति पूजा’ की उपयुक्त थीम पर भारतीय रामायण समूह, वाराणसी द्वारा उद्घाटन प्रदर्शन के साथ शुरू होगा। इस अनूठे प्रदर्शन में महिलाओं को भगवान राम और लक्ष्मण की भूमिकाओं में दिखाया गया है, जो सामान्य जीवित विरासत से बिल्कुल अलग है। इस कार्यक्रम के बाद थाईलैंड के खोन नृत्य मंडली द्वारा रामायण का प्रदर्शन किया जाएगा, जिसमें रावण द्वारा सीता के अपहरण के आसपास का दृश्य दिखाया जाएगा।
मलेशिया के ललित कला मंदिर द्वारा अगली शाम प्रदर्शन उनकी रामायण सामग्री में भारतीय नृत्य रूपों की समृद्धि को दर्शाएगा। शाम में लाओस के रॉयल बैले मंडली लुआंग प्रबांग द्वारा ‘फ्रा-लाक फ्रा-लैम’ शीर्षक से एक प्रस्तुति पेश की जाएगी, जो ‘गोल्डन डियर और सीता के अपहरण’ की थीम पर आधारित होगी। तुलसीदास द्वारा रचित रामचरितमानस पर आधारित प्रसिद्ध कथक नृत्य प्रतिपादक पं. अनुज मिश्रा का नृत्य होगा। कार्यक्रम का समापन प्रसिद्ध मोहिनीअट्टम नृत्य प्रतिपादक जयप्रभा मेनन द्वारा ‘सीता उवाच’ विषय पर नृत्य प्रदर्शन होगा, जो चुने हुए विषय पर अपना अनूठा सौंदर्यशास्त्र लाने के लिए मशहूर हैं। श्रीलंका के पूर्वी विश्वविद्यालय के स्वामी विपुलानंद इंस्टीट्यूट ऑफ एस्थेटिक्स स्टडीज के छात्र चुने हुए विषय पर एक व्यापक संस्करण प्रस्तुत करेंगे, जबकि सिंगापुर के कल्पवृक्ष समूह की मीरा बालासुब्रमण्यम और स्वाति थिरुनल, दोनों कर्नाटक में उल्लेखनीय हिंदुस्तानी शैली की; संगीतमय कविता पर अपना प्रदर्शन प्रस्तुत करेंगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here