सुरभि शुक्ला की ‘शैतानी रस्में’ से टेलीविजन पर धमाकेदार वापसी

0
89

नज़र से ओझल मतलब दिमाग से ओझल, यह एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री का सबसे बड़ा सच है और टीवी से दूर रहना किसी भी एक्टर के लिए बड़ा रिस्क है. लेकिन, सुरभि शुक्ला ने ग्रोथ के लिए यह जोखिम उठाया। और अब, वह स्टार भारत पर अपने नवीनतम शो ‘शैतानी रस्में’ के साथ चार साल बाद टेलीविजन पर वापसी कर रही हैं।

किस वजह ने सुरभि शुक्ला को टेलीविजन से दूर रखा, इसका खुलासा करते हुए उन्होंने स्वीकार किया के, “मुझे पता है कि लंबे समय तक स्क्रीन से दूर रहना बड़ा जोखिम है, खासकर जब हर रोज नए चेहरे सुर्खियां बटोर रहे हों। लेकिन, मैं हमेशा से साऊथ की कुछ फिल्में करना चाहती थी और इसके लिए मुझे कुछ समय मिल गया था। 2019 के बाद कोविड के दौरान हमारी इंडस्ट्री मंदी के दौर से गुजर रही थी और कई एक्टर्स को काम के ज्यादा मौके नहीं मिल रहे थे. इसलिए, मैंने अपने कम्फर्ट जोन से बाहर आकर साऊथ की फिल्मों में ट्राई करने का फैसला किया। सौभाग्य से, मुझे दो फिल्में मिलीं, एक का नाम ‘रानी’ है और दूसरे का शीर्षक अभी घोषित नहीं किया गया है। मैं दोनों फिल्मों की पहले ही शूटिंग कर चुकी हूं और किसी अच्छे प्रोजेक्ट का इंतजार कर रही थी । मैं हमेशा नॉन- लीड किरदारों के लिए भी तैयार थी , लेकिन यह प्रोजेक्ट लेने के लिए कहानी और किरदार बोनो ही मजबूत होना चाहिए येह एक मात्र मेरी शर्त थी । और तभी , मुझे स्टार भारत से ‘शैतानी रस्में’ के लिए कॉल आया।”‘देवों के देव महादेव’ में रोहिणी के किरदार से प्रसिद्धि पाने वाली सुरभि शुक्ला ने बालाजी टेलीफिल्म्स -महाभारत, सीआईडी, आहट, जय बहारंग बली, महिमा शनि देव की, बेटियां, अकबर का बल बीरबल,सूर्यपुराण’, ‘बुद्ध’ जैसे शो भी किए हैं। ‘महाराजा की जय हो’ सुरभि शुक्ला का टेलीविजन पर आखिरी शो था। ‘शैतानी रस्में’ न केवल टेलीविजन पर सुरभि शुक्ला कमबैक शो है, बल्कि यह ‘देवों के देव महादेव’ के बाद निखिल सिन्हा के साथ उनका रीयुनीयन भी है। शो के बारे में बात करते हुए, सुरभि ने कहा, “मेरा आखिरी शो स्टार प्लस पर ही ‘महाराजा की जय हो’ था, और यह मेरी सुपर-डुपर वापसी होगी क्योंकि यह स्टार और निखिल सिन्हा के बैनर ‘ट्राएंगल फिल्म कंपनी’ के साथ मेरा नवीनतम जुड़ाव है।  “मैं आरोही का किरदार निभा रही हूं, जो परिवार में बड़ी बहू है। शो में मेरे और मेरे पति सहित हम सभी परिवार के सदस्यों की अपनी-अपनी इच्छाएं हैं जिन्हें पूरा करना है, और उनके पास सभी ‘शैतानी रस्में’ करने के कारण हैं।