‘राष्ट्रीय ई—पुस्तकालय (नेशनल डिजिटल लाइब्रेरी)’ का लोकार्पण किया।

0
711

केंद्रीय शिक्षा और कौशल विकास एवं उद्यमिता मंत्री श्री धर्मेंद्र प्रधान ने आज नई दिल्ली विश्व पुस्तक मेले के उद्घाटन सत्र के दौरान ‘राष्ट्रीय ई—पुस्तकालय (नेशनल डिजिटल लाइब्रेरी)’ का लोकार्पण किया। केंद्रीय बजट 2023—2024 के दौरान घोषित बच्चों और किशारों के लिए भारत सरकार के शिक्षा मंत्रालय द्वारा विकसित इस राष्ट्रीय ई—पुस्तकालय में अंग्रेजी सहित अनुसूची 8 में शामिल सभी 22 भाषाओं में फिक्शन, नॉन फिक्शन, विज्ञान और तकनीकी सहित अनेक विषयों पर पुस्तकों के पीडीएफ फॉमेट में ई—संस्करण, ऑडियो बुक्स उपलब्ध हैं।

श्री धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि नई दिल्ली विश्व पुस्तक मेला पढ़ने के आनंद का अवसर है। हमें गर्व है कि हमारे यहाँ भाषाओं की विविधता है। भारत ही एक ऐसा देश है जहाँ पर अनेक भाषाएँ बोली जाती हैं और कई भाषाओं में पाठकों के लिए पुस्तकें उपलब्ध हैं।

9 दिनों तक आयोजित होने वाले विश्व पुस्तक मेले में बहुभाषी भारत – एक जीवंत परंपरा पर आधारित विशाल थीम पवेलियन तैयार किया गया है जो मुद्रित पुस्तकों, डिजिटल मीडिया और तकनीकी इंस्टॉलेशन के माध्यम से भाषाई अभिव्यक्तियों की विविधता को आकर्षक तरीके से प्रदर्शित करता है।

इस अवसर पर सऊदी अरब के माननीय राजदूत सालेह बिन ईद अल हुसैनी ने अपने संबोधन में भारत और सऊदी अरब के दशकों पुराने रिश्ते पर बात करते हुए कहा कि भारत के अमृत काल और सऊदी के विजन 2030 में काफी समानताएँ हैं जहाँ दोनों ही देश युवाओं और महिलाओं के विकास को ध्यान में रखते हुए प्रगति पथ पर अग्रसर हैं।

नई शिक्षा नीति के अंतर्गत फाउंडेशनल लर्निंग को बढ़ावा देने के उद्देश्य से तैयार जादुई पिटारा किट के डिजिटल अवतार ई—जादुई पिटारा का भी लोकार्पण विश्व पुस्तक मेले के पहले दिन किया गया। इस जादुई पिटारा में प्रारंभिक शिक्षा का डिजिटल संस्करण है। यह विभिन्न भारतीय भाषाओं में खेल—खेल में सीखने के लिए 3 से 8 वर्ष के आयुवर्ग के बच्चों को प्रेरित करता है। यह ऐप ई-फ्लैश कार्डस, गेम्स, चित्रकथाएँ, ऑडियो-विजुवल शैक्षणिक सामग्री के साथ स्मार्ट फ़ोन, टेलीविज़न, रेडियो जैसे कई सारे डिवाइसेज पर उपलब्ध होगा।

उद्घाटन समारोह में शिक्षा राज्य मंत्री अन्नपूर्णा देवी, स्कूल शिक्षा और साक्षरता विभाग के सचिव श्री संजय कुमार, शिक्षा विभाग (उच्च शिक्षा) के सचिव के. संजय मूर्ति, आईटीपीओ के कार्यकारी निदेशक रजत अग्रवाल भी मौजूद थे। उद्घाटन समारोह में भारत सरकार के विभिन्न मंत्रालयों के प्रतिनिधि, विदेशों से आए प्रतिनिधि, प्रकाशन, लेखक, स्कूल विद्यार्थी एवं पीएम युवा 2.0 के अंतर्गत चयनित युवा लेखकों को भी आमंत्रित किया गया था।

उद्घाटन समारोह के उपरांत सभी विशिष्ट अतिथियों ने बहुभाषी भारत: एक जीवंत परंपरा पर आधारित हॉल नंबर 5 में सजे थीम मंडप का दौरा किया और एनबीटी, इंडिया द्वारा प्रकाशित ‘विजय नायक की स्मरणीय गल्प’ पुस्तक का लोकार्पण किया। इस अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की मन की बात कार्यक्रम पर आधारित “सामूहिक हित का दीप जले/इग्नाइटिंग कलेक्टिव गुडनेस पुस्तक का १२ भारतीय भाषाओँ में विमोचन किया गया। साथ ही एग्जाम वारियर्स पुस्तक के ब्रेल संस्करण का भी विमोचन किया गया। मेले के पहले दिन, चामू कृष्ण शास्त्री, अध्यक्ष भारतीय भाषा समिति, प्रोफेसर एन. चंद्रशेखरन, लेखक अग्नि रॉय सहित मशहूर पत्रकार रजत शर्मा, अभिनेत्री अदा शर्मा, ओडिशी नर्तक एवं लेखिका जया मेहता सहित कई मशहूर लेखकों, विचारकों व वक्ताओं ने भाग लिया।