फ्लिपकार्ट ने फोनपे से हिस्सेदारी घटाने की घोषणा की |

0
140

अपनी शुरुआत के सिर्फ चार सालों में फोनपे पर 25 करोड़ से ज्यादा यूजर रजिस्टर कर चुके हैं, जिसमें 10 करोड़ मंथली एक्टिव यूजर (MAU) हैं जिन्होंने अक्टूबर 2020 में   करीब 100 करोड़ डिजिटल पेमेंट लेनदेन किया है। हासिल की गई गति के साथ-साथ फोनपे  की महत्वपूर्ण विकास क्षमता को देखते हुए फ्लिपकार्ट के बोर्ड ने निर्धारित किया कि फोनपे को आंशिक रूप से स्वायत्त करने का यह सही समय था जिससे यह अगले तीन से चार वर्षों में यह अपनी दीर्घकालिक महत्वाकांक्षा को पूरा करने के लिए समर्पित पूंजी का उपयोग कर सकता है। आंशिक स्वत्रंतता फोनपे  को अपने विकास में केंद्रित नए निदेशक मंडल का गठन करने और अपने कर्मचारियों के लिए एक टेलर मेड इक्विटी प्रोत्साहन या ESOP कार्यक्रम बनाने का अवसर प्रदान करती है। इस वित्तपोषण चरण में फोनपे वॉलमार्ट के नेतृत्व वाले मौजूदा फ्लिपकार्ट निवेशकों से 5.5 बिलियन अमेरिकी डॉलर के पोस्ट-मनी मूल्यांकन पर प्राथमिक पूंजी में 700 मिलियन अमरीकी डालर जुटा रहा है। फ्लिपकार्ट फोनपे का सबसे बड़ा शेयरधारक रहेगा, और दोनों व्यवसाय अपने करीबी सहयोग को बनाए रखेंगे। इस प्रगति पर बोलते हुए फोनपे के संस्थापक और सीईओ समीर निगम ने कहा, ” फ्लिपकार्ट और फोनपे पहले से ही 25 करोड़ से अधिक यूजर्स के साथ अधिक महत्वपूर्ण भारतीय डिजिटल प्लेटफार्मों में से हैं। यह आंशिक स्वतंत्रता फोनपे  को सौ करोड़ भारतीयों को वित्तीय समावेशन प्रदान करने की हमारी दृष्टि को आगे बढ़ाने के लिए समर्पित दीर्घकालिक पूंजी तक पहुँच प्रदान करता है। ” फ्लिपकार्ट ग्रुप के सीईओ कल्याण कृष्णमूर्ति ने कहा, ” जब तक फ्लिपकार्ट कॉमर्स ने भारतीय ग्राहकों की जरूरतों को पूरा करना जारी रखा है, हम समूह की भविष्य की संभावनाओं को लेकर उत्साहित हैं। यह कदम फोनपे को अपनी क्षमता को बढ़ाने में मदद करेगा क्योंकि यह अपने विकास के अगले चरण में जाता है, और यह फ्लिपकार्ट और हमारे शेयरधारकों के लिए मूल्य सृजन को भी अधिकतम करेगा। ”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here