एसएईएल ने अपने नवीकरणीय ऊर्जा पोर्टफोलियो को आगे बढ़ाने के लिए 1 अरब डॉलर जुटाए

0
84

सौर और अपशिष्ट-से-ऊर्जा परियोजनाओं में विशेषज्ञता वाली प्रमुख भारतीय नवीकरणीय ऊर्जा कंपनी, एसएईएल ने नई दिल्ली में एक कार्यक्रम में साझेदारी के सफल गठन और कुल 1 अरब डॉलर तक की पूंजी जुटाने की घोषणा की। नॉर्वे के माननीय राजदूत, मिशन के उप प्रमुख, संयुक्त राज्य अमेरिका और अन्य गणमान्य व्यक्ति इस आयोजन में शामिल हुए। नॉरफंड, डीएफसी, एडीबी, टाटा क्लीनटेक व अन्य वित्तीय संस्थान पूंजी जुटाने में प्रमुख भागीदार हैं।

1 अरब डॉलर की साझेदारी की घोषणा के अलावा, एसएईएल की वित्त वर्ष 25 में 15,000 करोड़ रुपये के पूंजीगत व्यय को पूरा करने और अगले 4 वर्षों में 10 गीगावाट के अपने लक्ष्य तक पहुंचने के लिए हर साल 2-2.5 गीगावाट नवीकरणीय क्षमता निष्पादित करने की योजना है।

नॉरफंड के सीईओ श्री टेललेफ़ थोरलीफसन ने कहा, “हम एसएईएल के साथ साझेदारी करके रोमांचित हैं, और हम नॉर्वेजियन क्लाइमेट इन्वेस्टमेंट फंड के प्रबंधन के लिए नॉरफंड के जनादेश के अनुरूप, अपनी नवीकरणीय ऊर्जा क्षमता को बढ़ाने के लिए अपने महत्वाकांक्षी लक्ष्यों तक पहुंचने के लिए कंपनी के प्रयासों को और वित्तपोषित करने में सक्षम होने से खुश हैं।

अमेरिका सरकार की मिशन उप प्रमुख, सुश्री पेट्रीसिया लासीना ने कहा, जलवायु कार्रवाई और स्वच्छ ऊर्जा नेताओं के रूप में, अमेरिका और भारत तेजी से बड़े पैमाने पर स्वच्छ ऊर्जा को तैनात करने के लिए एक आम और महत्वाकांक्षी दृष्टिकोण साझा करते हैं। एसएईएल के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक श्री जसबीर सिंह ने कहा, “यह एसएईएल के लिए एक महत्वपूर्ण अवसर है और एसएईएल टीम द्वारा की गई कड़ी मेहनत और समर्पण का प्रमाण है। ये साझेदारियाँ हमें भारत के लोगों को स्थायी ऊर्जा समाधान प्रदान करने के हमारे मिशन में नई ऊंचाइयों तक ले जाएंगी। हम अपने निवेशकों के विश्वास और समर्थन के लिए आभारी हैं और नवीकरणीय ऊर्जा पहल को आगे बढ़ाने के अपने लक्ष्यों को पूरा करने के लिए प्रतिबद्ध हैं।