ऑर्किड्स द इंटरनेशनल स्कूल ने पर्यावरण अनुकूल समाधानों के साथ मनाया राष्ट्रीय विज्ञान दिवस

0
65

ऑर्किड्स द इंटरनेशनल स्कूल ने राष्ट्रीय विज्ञान दिवस मनाने के लिए देश को एकजुट किया। इस साल, राष्ट्रीय विज्ञान दिवस का विषय ‘साइंस फॉर ऑर्किड्स ए सस्टेनेबल फ्यूचर’ है। इस थीम के अनुरूप, ऑर्किड्स द इंटरनेशनल स्कूल के विद्यार्थियों ने दो उल्लेखनीय समाधानों के साथ नवचार को लेकर अपनी प्रतिबद्धता अनुरूप एक घरेलू वॉटर फिल्टर और एक डिस्टिलेशन मॉडल। 9वीं कक्षा के विद्यार्थियों ध्रुवी, शिवांशी और सम्प्रति ने वॉटर फिल्टर बनाया है, वहीं नितिन, निताई और अभिनव ने डिस्टिलेशन मॉडल बनाया है।

ये प्रोजेक्ट्स पर्यावरण की रक्षा करने वाले सस्‍टेनेबल समाधानों का उदाहरण हैं जोकि बड़े ही प्रभावी रूप से पर्यावरण से जुड़े महत्वपूर्ण मुद्दों को हल करते हैं। इस घरेलू वॉटर फिल्टर में पानी को साफ करने के लिए बड़ी ही सहजता से स्थानीय रूप से उपलब्ध सामग्रियों जैसे पत्थर, कंकड़, रेत, चारकोल और कॉटन का इस्तेमाल किया गया है। गुरुत्वाकर्षण से संचालित, कई परतों वाली एक फिल्‍ट्रेशन प्रक्रिया तैयार की गई है। यह सस्ता और पर्यावरण के अनुकूल समाधान है जोकि प्रभावी रूप से अशुद्धियों को निकालता है और स्वच्छ तथा सेहतमंद समुदायों के निर्माण में अपना योगदान दे रहा है। इसके साथ ही, डिस्टिलेशन मॉडल के डिजाइन में उन्होंने भाप बनाने के लिए हीटिंग से साफ पानी को गरम करने और फिर उसे तरल रूप में लाने के लिए कंडेंसिंग तकनीक का इस्तेमाल किया है।इस अवसर पर सुधा राजमोहन, वीपी एकेडमिक्स, ऑर्किड्स द इंटरनेशनल स्कूल विद्यार्थियों की उपलब्धियों पर गर्व व्यक्त करते हुए कहती हैं, हमें यह देखकर बहुत प्रसन्नता हो रही है कि हमारे स्टूडेंट्स दुनिया की वास्तविक चुनौतियों से लड़ने के लिए वैज्ञानिक खोज तथा अनूठेपन का सक्रियता से इस्तेमाल कर रहे हैं। यह प्रोजेक्ट ना केवल उनकी कुशलता के बारे में बताता है, बल्कि उनमें जिज्ञासा और खोज करने का जज्बा डालने के महत्व को भी दर्शाता है। उन्होंने कहा राष्ट्रीय विज्ञान दिवस के अवसर पर ऑर्किड्स द इंटरनेशनल स्कूल, समुदायों से नवाचारों और वैज्ञानिक पड़ताल को अपनाने का आग्रह करता है। यह आने वाली पीढ़ियों के लिए एक उज्जवल, पर्यावरण को लेकर ज्‍यादा स्‍थायी भविष्य का रास्ता है।